mutual-fund-kya-hai

म्यूचुअल फंड की प्राथमिक जानकारी हिंदी में

दोस्तों आज के समय में तो पैसा जहाँ और जितने भी तरीकों से आय वही कम है। आप सब मेरी इस बात से तो सहमत ही होंगे। इसलिए हम सभी नए नए तरीके ढूंढते रहते हैं जिससे पैसे कमा सके। तो दोस्तों इसी क्रम में आज हम बात करने वाले हैं Mutual fund kya hai? के बारे में।

क्यूंकि आज के समय में म्यूच्यूअल फंड्स पैसा कमाने के सबसे लोकप्रिय साधनों में से एक है। और आप लोगों ने इसके बारे में जरूर सुन रखा होगा। आप इसमें चाहे जितनी छोटी से छोटी या बड़ी से बड़ी रकम लगा सकते हैं।

आप भी अगर Mutual Funds Hindi में पैसा लगाना चाहते है तो हमारा कहना है की सबसे पहले आपको इसकी पूरी जानकारी कर लेनी चाहिए। इसलिए आज के लेख में हम आपको Mutual Fund Kya hai ,म्यूचुअल फंड की प्राथमिक जानकारी  देने वाले है और यह आपके लिए बहुत ही helpful होगी। तो फिर चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते है Mutual Fund Kya hai?

Mutual Fund Kya Hai? Mutual Fund In Hindi

“म्यूचुअल फंड एक ऐसी कंपनी है जो कई निवेशकों से पैसा जमा करती है और stock, bond और short-term debt जैसी securities में पैसा निवेश करती है। म्यूचुअल फंड की संयुक्त होल्डिंग्स को इसके पोर्टफोलियो के रूप में जाना जाता है। निवेशक म्यूचुअल फंड में शेयर खरीदते हैं। प्रत्येक शेयर फंड में निवेशक के हिस्से के स्वामित्व और इससे होने वाली आय का प्रतिनिधित्व करता है।”

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है
Mutual Fund Kya Hai?

दोस्तों Mutual Funds का नाम दिमाग में आते ही दो चीज़ें हमारे दिमाग में आती हैं एक तो शेयर्स और दूसरी रिस्क। लेकिन यहाँ पैसे न सिर्फ शेयर्स में लगाए जाते हैं बल्कि और भी कई तरह के इन्वेस्टमेंट किये जाते हैं।

और अगर पूरी जानकारी कर के Mutual Fund में निवेश किया जाये तो बहुत ही अच्छा खासा लाभ कमाया जा सकता है। Mutual fund को asset management companies (AMC) मैनेज करती है। आमतौर पर हर AMC में कई Mutual Fund Schemes होती हैं।

कैसे बन जाता है करोड़ों का फंड

जैसे मन की अगर आप म्‍युचुअल फंड (Mutual Fund in Hindi) में daily 100 रुपये यानी 3000 रुपये महीने का निवेश हर माह करे तो आसानी से करोड़पति बना जा सकता है। इस निवेश को 30 साल के लिए चलाना होगा। (यहां पर माना गया है कि रिटर्न औसतन 12 फीसदी मिला है)। ऐसे में यह 3000 रुपये निवेश आराम से करीब 1 करोड़ रुपये बन जाएगा।

म्यूच्यूअल फण्ड उद्योग की नींव कब रखी गई थी?

दोस्तों वर्ष 1963 में भारत सरकार ने यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (UTI) का गठन किया गया था। इसका उद्देश्य Mutual Fund Industry को लोगों के बीच लाना था। शुरुआत में UTI रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के अधीन काम करता था, परंतु 1978 में इसके सारे अधिकार IDBI Bank को दे दिए गए।

म्यूच्यूअल फण्ड की देख रेख कौन करता है?

जैसे की नागरिको की निगरानी पुलिस करती है, स्कूल में बच्चों की निगरानी टीचर्स करते हैं वैसे ही Mutual Fund की निगरानी यानि इसकी साऱी गतिविधियों को नियंत्रित करने का का कार्य Fund Manager करता है। Fund Manager का काम म्यूचुअल फंड में आ रहे पैसे का सही तरीके से हिसाब किताब करना व पैसे को सही जगह लगाकर investors को अधिक से अधिक मुनाफा देना होता है। 

म्यूच्यूअल फण्ड के प्रकार (Types of Mutual Fund)

दोस्तों आमतौर हम म्यूच्यूअल फण्ड के types के बारे में नहीं जानते हैं। अधिकांश म्यूचुअल फंड चार main type के होते हैं – Equity Mutual Fund, Debt Mutual Fund, Hybrid Mutual Fund और Solution Oriented Scheme। प्रत्येक प्रकार की अलग-अलग features, risks और rewards हैं। तो चलिए आज हम आपको इसके प्रकारो के बारे में भी बताते हैं-

1. Equity Mutual Fund Kya Hai?

Equity Mutual Fund में लम्बे समय के लिए निवेश करना काफी फायदेमंद रहता है। यह काफी अच्छा return देते हैं।

2. Debt Mutual Fund Kya Hai?

अगर आपको थोड़े कम समय के लिए निवेश करना है यानि की 5 साल या उससे कम अवधि के लिए तो Debt Mutual फण्ड में पैसा लगा सकते हैं।

3. Hybrid Mutual Fund Kya Hai?

जैसा की हाइब्रिड नाम से ही पता लगता है की यह किन्ही 2 स्कीम्स का मिश्रण है। Hybrid Mutual Fund में आपको Equity Mutual Fund व Debt Mutual Fund दोनों का फायदा मिलता है, परंतु इसमें निवेश करते समय बहुत ध्यान रखना चाहिए।

4. Solution Oriented Scheme Kya Hai?

यह आपके और आपकी family के future के लिए काफी अच्छी स्कीम साबित हो सकती है। इसमें आपको कम से कम 5 साल तक पैसा जमा करना होता है ताकि आप अपने बच्चों की शिक्षा, शादी व अपने रिटायरमेंट के बाद अच्छे से जीवन व्यतीत कर सके यानि जो पैसा आप इसमें लगाते है वह एक लंबे समय के लिए जमा करना पड़ता है।

mutual-fund-kya-hai
Mutual Fund Kya Hai?

Mutual Fund Kaise Kharide aur Kaise Beche?

निवेशक म्यूचुअल फंड के शेयर खुद फंड से या ब्रोकर के जरिए फंड के लिए खरीदते हैं, न कि अन्य निवेशकों से। म्युचुअल फंड के लिए निवेशक जो कीमत अदा करते हैं, वह फंड की प्रति शेयर शुद्ध संपत्ति मूल्य और खरीद के समय ली जाने वाली कोई भी फीस, जैसे बिक्री भार है।

म्यूचुअल फंड शेयर “रिडीमेबल” होते हैं, जिसका अर्थ है कि निवेशक किसी भी समय शेयरों को वापस फंड में बेच सकते हैं। फंड को आमतौर पर आपको सात दिनों के भीतर भुगतान भेजना होगा। म्यूचुअल फंड में शेयर खरीदने से पहले प्रॉस्पेक्टस को ध्यान से पढ़ें। प्रॉस्पेक्टस में म्यूचुअल फंड के निवेश उद्देश्यों, जोखिम, प्रदर्शन और खर्चों के बारे में जानकारी होती है।

Mutual Fund Me Invest Kaise Karen?

अब तक आपने यह तो समझ ही लिया की mutual fund kya hai चलिए अब जानते हैं की Mutual Fund Me Invest Kaise Karen? जैसे की आज के समय में सारा काम ऑनलाइन होने लगा है ठीक वैसे ही म्यूच्यूअल फंड्स में हम ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों ही तरह से इन्वेस्ट कर सकते हैं-

Offline- यह निवेश की परम्परागत पद्धति है। इसमें आपको खुद म्यूच्यूअल फंड कंपनी में जाकर वहां से फॉर्म लाना होगा। इससे आपको सीधे निवेश का फायदा मिलेगा, लेकिन अगर आप किसी distributor के माध्यम से mutual fund investment का फॉर्म भरते है तो आपको कुछ प्रतिशत उन्हें भी देना होगा।

Online- अब सभी म्यूच्यूअल फंड कंपनी की website होती है आप बस उस साइट पर जाकर खुद से फॉर्म भर सकते है। इसके लिए आपकी KYC की जाती है तो आप जरूरी दस्तावेज जैसे पैन कार्ड, बैंक पासबुक व आधार कार्ड आदि अपने पास रखें। इस तरह आप आसानी से Mutual Fund में पैसे invest कर सकते हैं

म्यूच्यूअल फण्ड को कौन रेगुलेट करता है?

Mutual Fund को नियंत्रित करने का काम SEBI (Securities Exchange Board of India) करती है। यह फंड हाउस पर नियंत्रण रखती है ताकि investors के साथ कोई धोखाधड़ी ना हो जाये। 

म्यूच्यूअल फण्ड House के चार्जेस क्या होते है?

दोस्तों Mutual Fund में निवेश करने से पहले आपको उसके खर्चो और fees के बारे में भी जानकारी कर लेनी चाहिए। Mutual fund house जो सेवाएं प्रदान करते है उसके बदले आप से Exchange Ratio Charges लेता है। यह 0.25% से लेकर 3% तक हो सकता है। 

(Net Asset Value)NAV Kya Hai?

जब भी म्यूचुअल फंड (Mutual fund) की बात की जाती है तो एक word जो बार-बार प्रयोग किया जाता है वह है Net Asset Value (NAV)। यह Mutual Fund के एक यूनिट की कीमत होती है और Mutual Fund की scheme की performance को बताता है। किसी म्यूचुअल फंड (Mutual fund) की NAV वो कीमत है जिससे उस fund की एक unit खरीदी या बेची जा सकती है।

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करते समय ध्यान देने योग्य बाते

दोस्तों अगर अपने पहले कभी भी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश नहीं किया है तो निवेश करते वक़्त आपको कुछ बाते जरूर ध्यान रखनी चाहिए-

  • Mutual Funds में पैसा लगाने से पहले किसी experienced व्यक्ति से सलाह करें ताकि आपको Mutual Fund की सभी information हो सके.
  • ऐसी कंपनी का चुनाव करें जिस का पुराना रिकॉर्ड अच्छा रहा हो और जहाँ से investors को profit हुआ हो.
  • ऐसी केटेगरी का चुनाव करे जो आपको बढ़िया Net Value Asset दे.
  • जल्दबाज़ी में आ कर बिना पूरी बातें समझे इन्वेस्ट न करें.

मेरी बात

मुझे उम्मीद है की आपको मेरा यह पोस्ट Mutual fund kya hai जरुर पसंद आएगा। Dailyhindihelp.Com हमेशा यही कोशिश रहती है की पाठकों को Mutual Fund me invest kaise karen के बारे में पूरी जानकारी दी जाये। जिससे की उन्हें किसी दूसरी Sites या Internet पर उस Article के विषय में खोजने की जरुरत ही न पड़े।

इससे आपके कीमती समय की बचत होगी और एक ही जगह पर आपको सारी Information भी मिल जाएगी। अगर फिर भी आपके मन में इस Article को लेकर कोई भी सवाल या Doubts हैं या आप चाहते हैं की इस लेख में कुछ सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप हम Comments कर के बता सकते हैं।

यदि आपको यह Article mutual fund in hindi Mutual fund kya hai पसंद आया या फिर इससे कुछ सीखने को मिला तो Please इस पोस्ट को Other Social Networks जैसे कि FacebookTwitter आदि पर Share कीजिये। पढ़ते रहिये, आगे बढ़ते रहिये।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

बा और पाखी ने दिखाए तेवर, अनुपमा ने दिए ऐसे जवाब साउथ ब्यूटी Pooja Hegde के Gorgeous एथनिक लुक्स Star Parivaar Grand Finale अनुज अनुपमा रोमांस