nifty-kya-hai

Nifty Kya Hai

Nifty Kya hai – दोस्तों अगर आप रोज़ का अख़बार पढ़ते है या फिर शेयर बाजार में रूचि रखते हैं तो आपने निफ़्टी और सेंसेक्स के बारे में तो जरूर सुना होगा। ऐसा इसलिए है क्यूंकि निफ़्टी और सेंसेक्स शेयर बाजार के बहुत ही महत्त्वपूर्ण टर्म्स में से एक है।

और अगर आप शेयर बाजार में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको इनके बारे में जानना आपके लिए बहुत जरुरी है। क्यूंकि शेयर बाजार अनिश्चितताओं से भरा है ऐसे में एक सफल निवेशक बनने के लिए आपको इसके हर पहलू पर ध्यान देना होगा।

दोस्तों हो सकता है की आपके आस पास के लोग अक्सर share market से जुडी बाते करते हों लेकिन आपको समझ ही नहीं आता होगा की वो क्या बातें कर रहे हैं। इसलिए आज के इस लेख में हम आपको निफ़्टी और सेंसेक्स से जुडी सभी जरुरी जानकारी देंगे। ताकि अगली बार से आपको कोई confusion न हो।

और साथ ही साथ निफ़्टी सेंसेक्स का परफॉरमेंस देख कर आप सभी लिस्टेड कम्पनीओं के share price target का अंदाज़ा भी लगा सकेंगे। तो फिर चलिए बिना देर किये शुरू करते हैं आज का लेख Nifty Kya Hai in hindi से।

Nifty Kya hai In Hindi ? (NIFTY 50 Kya Hai In Hindi)

चलिए शुरुआत करते हैं इसके फुल फॉर्म से NIFTY का Full Form है National Stock Exchange Fifty. यह नेशनल और फिफ्टी दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है। इसलिए इसे NIFTY 50 भी कहा जाता है पर आमतौर पर सभी लोग इसे NIFTY के नाम से ही बूलाते है।

अगर बात करें की nifty kya hai तो आप इसे ऐसे समझ सकते हैं की निफ़्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के उस एक दिन के रुख का अंदाज़ा दे सकता है। दरअसल निफ़्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड सभी कम्पनियों में से 50 प्रमुख और बड़ी कंपनियों का सूचकांक है।

इसमें 12 अलग अलग सेक्टर्स की 50 बड़ी बड़ी कंपनियां शामिल है। जिसके आधार पर आप यह अंदाज़ा लगा सकते हैं की उस दिन बाजार में उतार रहेगा या चढाव। यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है की यह सिर्फ उन्ही कंपनियों पर नज़र रखता है जी की लिस्टेड हैं। यह पुरे देश भर में सबसे ज्यादा ट्रेंड करता है।

Berger paints share price target 2022, 2023, 2025, 2030

Nifty Kya Hai In Hindi? with example

चलिए यहाँ में आपको एक उदाहरण से भी बता देती हूँ जैसे की हर बार चुनाव में एग्जिट पोल्स दिखाए जाते है । और उनपर चर्चा करके अंदाज़ा लगाया जाता है की कौन सी पार्टी आगे निकल रही है। बिलकुल ऐसा ही निफ़्टी भी है यह भी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड सभी कंपनियों के एग्जिट पोल्स की तरह है।

अगर निफ़्टी में तेज़ी आती है तो अंदाज़ा लगाया जा सकता है मार्किट में भी तेज़ी रहने वाली है। लेकिन यहाँ हमे एक बात पर ध्यान देना होता है की कोई भी exit poll या आंकड़े पूरे में से निकली गयी छोटी इकाईओं पर किये गए अध्ययन है।

तो पूरी 60-70% सम्भावना तो एहि होती है की exit polls सही रहेंगे लेकिन ऐसा भी हो सकता है की कुछ परिस्तिथियों में यह गलत हो। मतलब निफ़्टी का आंकड़ा वैसे तो सही ओर ही इंगित करता है लेकिन कभी यह गलत भी हो सकता है।

NIFTY का क्या काम है?

दोस्तों उम्मीद करती हूँ की आपको समझ आ गया होगा की Nifty Kya Hota Hai चलिए अब समझते है की NIFTY का क्या काम है। इसका काम हमे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के तहत लिस्टेड 50 बड़ी कंपनियों और उनकी परफॉरमेंस के बारे में बताना है।

दरसल यह कम्पनियों की गतिविधियों पर नज़र रखता है की कौन सी कंपनी बढ़िया काम कर रही है। क्यूंकि जो भी कंपनी बेहतर परफॉर्म कर रही होती है इसका सीधा असर उस कंपनी के शेयर की कीमतों में देखा जा सकता है। जब किसी कंपनी के शेयर्स भाव ऊपर जाते हैं तो सेंसेक्स भी ऊपर जाता है।

और ठीक इसके विपरीत अगर लिस्टेड 50 कम्पनीज की परफॉरमेंस में गिरावट आती है जिसके फलस्वरूप उस कंपनी के शेयर्स के भावों में कमी आती है। और शेयर प्राइस में कमी आने पर निफ़्टी में भी गिरावट देखि जाती है।

NIFTY किस प्रकार बनता है?

nifty-kya-hai
Nifty 50 Kya Hai?

दोस्तों चलिए साथ ही साथ आपको यह भी बता देते हैं की आखिर NIFTY किस प्रकार बनता है? या इसकी गणना कैसे की जाती है? ऐसे तो नसे के अंदर 6000 कम्पनिया लिस्टेड है लेकिन जैसे की हमने आपको बताया की निफ़्टी में 12 अलग सेक्टर्स की 50 बड़ी कंपनियां है जिनके आधार पर निफ़्टी की गणना की जाती है। निफ्टी में Listed 50 Companies को चुनने के लिए एक index committee का होता है इस committee में बड़े बड़े अर्थशास्त्री आदि शामिल होते है जो मिलकर 50 कंपनियों को चुनते है।

निफ़्टी के तहत सभी 12 सेक्टर की बड़ी बड़ी कंपनियां, जो उस सेक्टर का लगभग 50-60% हिस्सा कवर किये होती हैं के फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल के हिसाब से निफ़्टी की गणना की जाती है। यहाँ में आपको फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल का मतलब भी बता देती हूँ।

जैसे माना की किसी कंपनी के पास 100 शेयर्स है लेकिन इन 100 शेयर्स में से 30 शेयर्स खुद कंपनी के ओनर के है, जिन्हे कंपनी द्वारा कभी मार्किट में उतारा ही नहीं गया है तो इन 30 शेयर्स को हटा के कंपनी की जो कैपिटल बचती है उसके हिसाब से निफ़्टी की गणना की जाती है।

NIFTY के फायदे

यहाँ Nifty Kya Hota Hai के बारे में जानकर आपको कुछ अंदाज़ा तो जरूर मिल गया होगा। लेकिन चलिए भावी निवेशकों को NIFTY 50 के फायदे के बारे में एक नज़र बता देते है।

  • NSE की परफॉरमेंस के बारे में एक नजर में ही पता चल जाता है.
  • बाजार में आने वाली और चल रही तेज़ी और मंडी के अनुमान मिल जाता है.
  • यहाँ हम थोड़ा बहुत देश की इकॉनमी का भी अंदाज़ा लगा सकते है. ऐसा माना जाता है की अगर निफ़्टी ऊपर है तो इकॉनमी भी ऊपर की और ही बढ़ेगी.

Nifty की सीमायें

दोस्तों जैसे की अभी हमने आपको बताया की आप निफ़्टी के इंडेक्स को देखकर अंदाज़ा लगा सकते हैं की बाजार का मिज़ाज़ क्या है। लेकिन यह हर बार सही हो ऐसा जरुरी भी नहीं है। और कोई भी निवेशक इसपर पूरी तरह से आश्रित नहीं रह सकता है और पूरी तरह से इसपर depend रहना भी नहीं चाहिए । इसके पीछे 2 main reasons है।

  • पहला तो यह की निफ़्टी इंडेक्स में सभी सेक्टर्स की बड़ी कंपनियां न लेकर उन बड़ी कंपनियों को शामिल किया जाता है जो की फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल सबसे अधिक की होती है. जैसे मान लीजिये की 2 कंपनियां है जिसमे से कंपनी १ की कुल कैपिटल 2000 करोड़ की है लेकिन इसका फ्री फ्लोट कैपिटल 1200 करोड़ है वहीँ कंपनी 2 जिसकी कुल कैपिटल 1500 करोड़ है लेकिन इसके फ्री फ्लोट कैपिटल 1400करोड़ है. तो ऐसी स्तिथि में कंपनी 2 भले ही कंपनी 1 से छोटी है लेकिन चुकी कंपनी 2 की फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल कंपनी 1 से अधिक है तो कंपनी 2 को ज्यादा वेइटज मिलेगी.
  • और दूसरी बात यहाँ इंडेक्सिंग में सिर्फ 50 कोई बड़ी कम्पनियों के आकड़ों और परफॉरमेंस के आधार पर हम 6000 दूसरी कंपनियों के बारे में अनुमान लगाने की कोशिश कर रहे है जो की काफी हद तक ठीक नहीं हो सकता.
  • हर 3 महीने में टॉप 50 में शामिल कंपनियों का रिव्यु किया जाता है. और अगर कंपनी अच्छा परफॉर्म नहीं करती है जिसकी वजह से कंपनी का फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल गिर जाता है. यहाँ सबसे बड़ी फ्री फ्लोट मार्किट कैपिटल वाली कंपनियों को ही चुना जाता है तो जो कंपनियां बेहतर परफॉर्म नहीं करती उन्हें निकाल दिया जाता है और दूसरी अच्छी performance वाली कंपनियों को शामिल किया जाता है.

NIFTY और अर्थव्यवस्था

दोस्तों आपमें से कई लोगों का सवाल हो सकता है की क्या निफ़्टी के उतार चढाव का देश की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ता है या फिर अगर असर पड़ता है तो किस तरह से?

तो पहले तो इसका सीधा जवाब है की जी हाँ निफ़्टी और अर्थव्यस्ता का सम्बन्ध है। निफ़्टी के ऊपर जाने का मतलब है की लार्ज कैपिटल वाली कम्पनिया अच्छा परफॉरमेंस दिखा रही है जिससे उनका मुनाफक बढ़ता है और जाहिर सी बात है अगर प्रॉफिट बढ़ेगा तो टैक्स भी ज्यादा देना पड़ेगा जिससे देश की अर्थव्यवस्था का विकास होता है।

मेरी बात

मुझे उम्मीद है की आपको मेरा यह पोस्ट nifty kya hai (What is NIFTY in Hindi) जरुर पसंद आएगा। Dailyhindihelp.com हमेशा यही कोशिश रहती है की पाठकों को nifty kya hota hai के बारे में पूरी जानकारी दी जाये। जिससे की उन्हें किसी दूसरी sites या internet पर उस article के विषय में खोजने की जरुरत ही न पड़े।

इससे आपके कीमती समय की बचत होगी और एक ही जगह पर आपको सारी information भी मिल जाएगी। अगर फिर भी आपके मन में इस article को लेकर कोई भी सवाल या doubts हैं या आप चाहते हैं की इस लेख में कुछ सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप हम comments कर के बता सकते हैं।

यदि आपको यह article nifty 50 kya hai in hindi पसंद आया या फिर इससे कुछ सीखने को मिला तो please इस पोस्ट को other Social Networks जैसे कि FacebookTwitter आदि पर share कीजिये। पढ़ते रहिये, आगे बढ़ते रहिये।

Content Protection by DMCA.com

1 thought on “Nifty Kya Hai”

  1. Nifty mai trade krna hai nifty jab upar niche hota hai to hme pehle keya dekhna chahie ki upar jaye ga ja niche

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

पाखी ने करवाया अनुपमा पर जानलेवा हमला,अनुज अनुपमा की हो जाएगी मौत? Spoiler Alert! Anupamaa: Pakhi rejects the gift of love REBORN RICH TEASER : BORN IN THE FAMILY WHO KILLED HIM!!