ErrorException Message: Argument 2 passed to WP_Translation_Controller::load_file() must be of the type string, null given, called in /home/ihsuczdr/domains/dailyhindihelp.com/public_html/wp-includes/l10n.php on line 838
https://www.dailyhindihelp.com/wp-content/plugins/dmca-badge/libraries/sidecar/classes/ Yellow Fungus - ब्लैक और वाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस के मामले सामने आये
yellow-fungus-symptoms

Yellow Fungus – ब्लैक और वाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस के मामले सामने आये

समझ में नहीं ना रहा की हो क्या रहा है पहले corona, black fungus और फिर white fungus और इनसे अभी उबर भी नहीं पाए हैं की एक और बीमारी ने दस्तक दे दी है। सूत्रों के मुताबिक माना जा रहा है की Yellow Fungus, Black और White Fungus से भी कही ज्यादा खतरनाक है।

Yellow Fungus के बारे में पता तब लगा जब भारत की राजधानी दिल्ली- एनसीआर से इसका पहला मामला सामने आया। इस बीमारी का इलाज ENT सर्जन डॉक्टर ब्रिज पाल त्यागी के हॉस्पिटल में किया जा रहा है।

Yellow Fungus क्या है?(What is Yellow Fungus)

येलो फंगस काफी घातक बीमारी है। यह अंदरूनी रूप से शुरू होता है इसके किसी भी लक्षण को अगर आप अपने शरीर में महसूस करें तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएँ। अभी तक इसका जो इलाज मिल पाया है वो है इंजेक्शन। जी हाँ इस बीमारी में amphotericin बी, जो की एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम एंटीफंगल है, दिया जाता है।

yellow-fungus-symptoms
Yellow Fungus

Yellow Fungus के लक्षण (Yellow Fungus Symptoms)

म्यूकोरेसेप्टिक्स यानि की Yellow Fungus के प्रमुख लक्षण इस प्रकार हैं –

1- कम भूख लगना या भूख न लगना

2- वजन कम होना

3- सुस्ती या थकान महसूस होना

ये कुछ लक्षण येलो फंगस के रोगी में विशेष तौर पर देख गए हैं। लेकिन जैसे जैसे ये रोग बढ़ता है इसके और भी कहीं ज्यादा गंभीर लक्षण सामने आने लगते हैं। जैसे की –

1- मवाद आना

2- घाव का धीमे गति से ठीक होना

3- कुपोषण

4- ऑर्गन फेलियर

5- आँखों का धसना

Yellow Fungus की वजह क्या है?

दोस्तों आपसे गुज़ारिश है की आप Yellow Fungus बीमारी की वजहों को ठीक से पढ़कर समझ लें और उनपर ध्यान दें ताकि ये बीमारी फैलने न पाए। जितना हो सके अधिक से अधिक अपने घर में और घर के आस पास साफ सफाई रखें, अगर घर के आस पास कोई बड़ा है तो उसे उसे जरूर साफ़ रखें। और अगर जल्दी से जल्दी बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकना है तो पुराने खाद्य पदार्थों को हटा दें।

इसके लिए घर की हुमिडीटी भी बहुत महत्व करती है हुमिडीटी की जाँच करते रहें। हुमिडीटी अधिक होती है तो बैक्टीरिया और फंगस भी जल्दी बढ़ते हैं। सही हुमिडीटी का स्तर 30-40% होता है। अधिक हुमिडीटी की तुलना में कम हुमिडीटी से आसानी से निपटा जा सकता है। वाटरटैंक में नमी को कम करें और अच्छी प्रतिरोधक प्रणाली के साथ Yellow Fungus से बचाव किया जा सकता है।

मेरी बात

www.dailyhindihelp.com का उद्देश्य है की आप तक सही और सटीक जानकारी पहुचायी जाये हम नए नए लेख जल्दी लाते रहेंगे ताकि आपको Yellow Fungus के बारे में सारी जानकी मिलती रहे। अगर आपका कोई सवाल है तो हमे जरूर लिखें।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

गर्मियों में ऐसे करें स्टिक फाउंडेशन को ब्लेंड, नहीं होगा मेकअप मेल्ट BTS’ Jungkook schools fans, says ‘I am human too, please don’t come…’ Sushmita Sen On Suffering A Heart Attack: “I Am Very Lucky To Be On The Other Side”