tulsi-gowda-koun-hai

नंगे पैर पद्मश्री अवार्ड लेने पहुंची तुलसी गौड़ा

Tulsi Gowda Koun Hai – तुलसी गौड़ा, जिन्हें “वन का विश्वकोश” के रूप में जाना जाता है, को सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित किया गया। वह वर्ष 2020 के लिए 61 पद्म श्री पुरस्कार विजेताओं में शामिल हैं।

72 वर्षीय गौड़ा ने राष्ट्रपति भवन में नंगे पांव पहुंच कर यह पुरस्कार ग्रहण किया और अपनी सादगी के लिए सोशल मीडिया पर खूब प्रशंसा बटोरी। वह राष्ट्रपति भवन के ऐतिहासिक दरबार हॉल में नंगे पांव चलीं, राष्ट्रपति से पुरस्कार लेने जाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिवादन करने के लिए कुछ देर रुकीं।

google trends

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 73 व्यक्तियों को पद्म पुरस्कार प्रदान किए, जिनमे से कुछ मरणोपरांत भी है। इनमें से चार पद्म विभूषण, आठ पद्म भूषण और 61 पद्म श्री पुरस्कार वर्ष 2020 के लिए राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार थे। कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले के एक गांव में हलक्की आदिवासी परिवार में जन्मे तुलसी गौड़ा ने लगाया है उन्होंने अपने जीवनकाल में 30,000 से अधिक पौधे लगाए हैं।

This pic is worth a million words.#TulsiGowda#PeoplesPadma pic.twitter.com/iCKXWny2bo
— Arun Bothra

tulsi-gowda-koun-hai

Tulsi Gowda Koun Hai

राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट किया, “राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सामाजिक कार्यकर्ता तुलसी गौड़ा को पद्म श्री से सम्मानित किया, जो पौधों और जड़ी-बूटियों की विविध प्रजातियों के अपने विशाल ज्ञान के कारण वन के विश्वकोश के रूप में प्रसिद्ध हैं।”

तुलसी गौड़ा एक स्वयंसेवक के रूप में कर्नाटक वन विभाग में शामिल हुईं। पर्यावरण की रक्षा के लिए उनके समर्पण और प्रतिबद्धता को देखते हुए, सरकार ने उन्हें एक सदस्य के रूप में एक स्थायी नौकरी की पेशकश की। वह पौधों का पोषण करती है और अपने ज्ञान को युवा लोगों के साथ साझा करती है, इस प्रकार पर्यावरण की रक्षा के संदेश को आगे बढ़ाती है।

ऐसे में कई लोगो ने अपनी अपनी विशेष टिप्पणियां दी वहीं अजय दुबे (@AjayDindian) ने लिखा कि ऐसे किरदारों को जब पदम् पुरस्कार मिलते है तो खुद पुरस्कार का सम्मान उनकी क्रेडिबिलिटी बढ़ती है। सामान्य दृष्टि में पैर में चप्पल नही तन ढकने भर कपड़े नही पर उपलब्धि ऐसी देश के 2 सबसे ताकतवर आदमी समाने हाथ जोड़े बैठे है।

पत्रकार अभिनव पांडे (@Abhinav_Pan) ने एक अन्य तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा हाड़ मांस का जर्जर सा शरीर, शरीर पर पारंपरिक धोती, हाथ में पद्म श्री और चेहरे पर गजब की खुद्दारी !! कर्नाटक से 77 बरस की तुलसी गौड़ा हैं। 30 हजार से ज्यादा पेड़ लगा चुकी हैं। खेत की पगडंडी से चलकर राष्ट्रपति भवन की लाल कालीन पर इन नंगे कदमों का पहुंचना,वाकई सुखद है।

मेरी बात

मुझे उम्मीद है की आपको मेरा यह पोस्ट Tulsi Gowda Koun Hai? जरुर पसंद आएगा। Dailyhindihelp.com हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Tulsi Gowda के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है।

इससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जाएगी। यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप comments लिख सकते हैं।

यदि आपको यह लेख आसानी से Tulsi Gowda पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि FacebookTwitter और दुसरे Social media sites share कीजिये। पढ़ते रहिये, आगे बढ़ते रहिये।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

पाखी ने करवाया अनुपमा पर जानलेवा हमला,अनुज अनुपमा की हो जाएगी मौत? Spoiler Alert! Anupamaa: Pakhi rejects the gift of love REBORN RICH TEASER : BORN IN THE FAMILY WHO KILLED HIM!!